Samastipur : समस्तीपुर में झमाझम बारिश से राहत, धनरोपनी तेज.

समस्तीपुर जिले में सोमवार और मंगलवार को हुई बारिश से जहां आम जनजीवन को भीषण गर्मी से राहत मिली, वहीं किसानों के चेहरे भी खुशी से खिल उठे। लंबे इंतजार के बाद आई इस बारिश ने न केवल तापमान में कमी लाई है, बल्कि किसानों को धान की रोपनी के लिए अनुकूल परिस्थितियां भी प्रदान की हैं।

बारिश की वजह से सरायरंजन प्रखंड के किसानों ने धान की रोपनी तेजी से शुरू कर दी है। तीन दिनों से लगातार हो रही हल्की बारिश ने खेतों में नमी लौटा दी है, जिससे किसानों को काफी सहूलियत मिली है। हालांकि, किसानों ने पहले कम बिचड़ा लगाया था, लेकिन अब बारिश होने पर वे अपने खेतों में धान का बिचड़ा लगा रहे हैं।

जिले में 89 हजार हेक्टेयर में धान की खेती का लक्ष्य रखा गया है। लगातार चार दिनों से हो रही मानसून की बारिश के बाद धान रोपनी का काम तेजी से बढ़ रहा है। अब तक मिली जानकारी के अनुसार, 20 फीसदी खेतों में धान की फसल किसानों ने लगा ली है। लंबी अवधि वाले धान की बुआई 15 जुलाई तक पूरी करनी होती है, इसके बाद बुआई होने वाली धान की उपज पर प्रतिकूल असर पड़ता है।

किसानों ने शिकायत की है कि बीज के लिए दिए गए आवेदन के बावजूद, उन्हें बीज उपलब्ध नहीं कराया गया है। इसके चलते उन्हें 50 से 80 रुपये प्रति किलो के हिसाब से बाजार से बीज खरीदना पड़ा। किसानों का कहना है कि कृषि विभाग ने अच्छे प्रभेद के बीज उपलब्ध नहीं कराए, जिसके कारण उन्हें बाजार से महंगे ब्रांड के बीज खरीदने पड़े हैं।

   

Leave a Comment