Samastipur Health Department : समस्तीपुर में डेंगू को लेकर स्वास्थ्य विभाग अलर्ट.

मानसून के आगमन के साथ ही समस्तीपुर में स्वास्थ्य विभाग ने डेंगू के संभावित प्रकोप से निपटने के लिए कमर कस ली है। सभी अस्पतालों और स्वास्थ्य केंद्रों को आवश्यक तैयारियां पूरी करने के निर्देश दिए गए हैं ताकि डेंगू से बचाव और इलाज में कोई कमी न रहे।

मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एसके चौधरी ने सभी अनुमंडलीय अस्पतालों और प्राथमिक एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों को डेंगू वार्ड स्थापित करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने बताया कि मानसून के बाद डेंगू के मामलों में वृद्धि की संभावना होती है, इसलिए अभी से तैयारी करना आवश्यक है। डीएमओ डॉ. विजय कुमार ने कहा कि विभाग पूरी तरह से अलर्ट मोड में काम कर रहा है और आशा कार्यकर्ताओं को पंपलेट वितरित करने तथा लोगों को जागरूक करने का निर्देश दिया गया है।

डॉ. विजय कुमार ने बताया कि डेंगू और चिकनगुनिया की बीमारियां एडिस मच्छर के काटने से फैलती हैं। ये मच्छर दिन में काटते हैं और साफ पानी में पनपते हैं। इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि घरों और आसपास पानी जमा न होने दिया जाए।

डेंगू के लक्षणों में तेज बुखार, बदन, सर और जोड़ों में दर्द, आंखों के पीछे दर्द, त्वचा पर लाल धब्बे, काला पैखाना, नाक या मसूढ़ों से खून निकलना शामिल हैं। ऐसे लक्षण दिखने पर तुरंत नजदीकी अस्पताल या मेडिकल कॉलेज से संपर्क करना चाहिए।

   

स्वास्थ्य विभाग ने लोगों को मच्छरदानी का उपयोग करने, मच्छर भगाने वाली क्रीम और दवा का प्रयोग करने, पूरे शरीर को ढंकने वाले कपड़े पहनने और टूटे-फूटे बर्तनों, कूलरों, एसी, फ्रिज के ट्रे की सफाई करने की सलाह दी है। इसके साथ ही गमलों का पानी हर दूसरे दिन बदलने और जमे हुए पानी पर मिट्टी तेल डालने की भी हिदायत दी गई है।

Leave a Comment