Bihar : बिहार के सभी ज़िलों में खत्म होगा जलजमाव की समस्या, एनएच का काम तेज.

दरभंगा, समस्तीपुर व मधुबनी में बाढ़-जलजमाव से सुरक्षा और सिंचाई सुविधाओं के विस्तार के लिए एकीकृत जल संसाधन प्रबंधन योजना तैयार की जाएगी। कमला सिंचाई परियोजना व पश्चिमी कोसी नहर परियोजना का विस्तारीकरण, नवीकरण और आधुनिकीकरण के साथ-साथ दरभंगा प्रमंडल के अंतर्गत जलजमाव क्षेत्र से जल निकासी में सुधार व विकास की योजनाओं पर काम होना है। 35 करोड़ की योजना।

लोकसभा चुनाव के दौरान लागू आदर्श आचार संहिता के कारण बिहार में निर्माण परियोजनाओं पर ब्रेक लग गया था। अब इसके खत्म होने पर ये परियोजनाएं रफ्तार पकड़ेंगी। पथ निर्माण विभाग में 418 किलोमीटर राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजनाओं पर काम करने की तैयारी चल रही है। इसमें 168 किलोमीटर एनएच पथ निर्माण विभाग के एनएच प्रभाग तो 350 किलोमीटर एनएच एनएचएआई के अधीन है।

जिन अहम सड़क परियोजनाओं पर काम शुरू होना है उसमें पटना में जेपी सेतु के समानांतर बनने वाला छह लेन पुल भी शामिल है। इस पुल के लिए एजेंसी को कार्यादेश भी दिया जा चुका है। लेकिन चुनाव के कारण इसका काम शुरू नहीं हो सका था। एनएच 122 बी हाजीपुर-महनार सड़क का भी काम जल्द ही शुरू होगा। धार्मिक कॉरिडोर के तहत बनने वाले उमगांव -बासोपट्टी-भेजा का काम शुरू होगा। अररिया के रानीगंज बाईपास, कटिहार में अमनाबाद-मनिहारी, बक्सर-चौसा फोर लेन और गया-बोधगया फोर लेन का भी काम शुरू होगा।

बिहार राज्य पथ विकास निगम के तहत 10 स्टेट हाईवे का चौड़ीकरण होना है। इसकी डीपीआर बन चुकी है। वित्तीय संस्थानों से कर्ज लेने की प्रक्रिया अब शुरू होगी। शेरपुर-दिघवाड़ा, दानापुर-बिहटा एलिवेटेड, गांधी सेतु के समानांतर, कच्ची दरगाह-बिदुपुर, बख्तियारपुर-ताजपुर में पहले से काम चल रहा है। इन जगहों पर लोकसभा चुनाव के कारण निर्माण कार्य पर असर पड़ रहा था। इन सड़क योजनाओं के जल्द पूरा होने से संबंधित क्षेत्र के लोगों को यातायात में सुविधा होगी।

   

तिरहुत मुख्य नहर का पक्कीकरण शुरू हो रहा है। मुख्य नहर का पुनर्स्थापन किया जाएगा। इससे मुजप्फरपुर, वैशाली व समस्तीपुर जिले के किसान लाभान्वित होंगे। इसी तरह सारण तटबंध का 40 किलोमीटर में पुनर्स्थापन होगा और पक्की सड़क बनेगी। पूरी योजना पर लगभग दो सौ करोड़ से अधिक खर्च होंगे।

Leave a Comment