Samastipur School Teachers : समस्तीपुर में शिक्षकों में तनाव की शिकायत आम, बच्चों के पठन-पाठन पर असर.

समस्तीपुर समाहरणालय सभागार में जिलाधिकारी द्वारा क्षमतालय फाउंडेशन के तत्वावधान में ‘हौसला’ कार्यक्रम पर एक दिवसीय कार्यशाला आयोजित की गई। इस कार्यक्रम की अध्यक्षता जिला कार्यक्रम पदाधिकारी मानवेन्द्र कुमार राय ने की।

उन्होंने कहा कि शिक्षा विभाग समस्तीपुर और क्षमतालय फाउंडेशन के संयुक्त प्रयास से शिक्षकों के मानसिक स्वास्थ्य पर आधारित ‘हौसला’ कार्यक्रम आयोजित किया गया है। यह पाया गया है कि शिक्षकों में शैक्षिक और गैर-शैक्षिक कार्यों के कारण तनाव की समस्या आम हो गई है, जिससे बच्चों की पढ़ाई पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

इस कार्यशाला का मुख्य उद्देश्य शिक्षकों के स्वास्थ्य को मजबूत बनाना है। 21 दिवसीय इस कार्यक्रम को अनुभव करने के बाद शिक्षकों में ऐसे कौशल विकसित होंगे, जो उनके स्वास्थ्य को बेहतर बनाए रखने में सहायता करेंगे। ‘हौसला’ एक 21 दिनों का मानसिक और भावनात्मक स्वास्थ्य पर केंद्रित ऑडियो कार्यक्रम है, जो विशेष रूप से शिक्षकों और शिक्षाविदों के लिए विभिन्न रणनीतियों और अभ्यासों के माध्यम से उनके स्वास्थ्य को सुनिश्चित करने में मदद करता है।

इस कार्यक्रम से शिक्षक अपने दैनिक जीवन में उत्पन्न तनाव, उलझन और दबाव को संतुलित कर सकेंगे। वे अपने बेहतर स्वास्थ्य के लिए तकनीकों और अभ्यासों की खोज और पहचान कर पाएंगे। यह कार्यशाला व्यक्तिगत और व्यावसायिक वृद्धि के साथ पारस्परिक संबंधों को मजबूत बनाने के उद्देश्य से रेसिलिएंस, अंतर्निर्भरता और भावनात्मक संज्ञान से परिचय और अभ्यास कराती है। इस कार्यशाला में जिले के सभी प्रखंडों से आए हुए 100 शिक्षकों को प्रशिक्षित किया गया। इस कार्यक्रम में क्षमतालय फाउंडेशन से पूजा सिंह और अभिषेक कुमार भी उपस्थित थे।

   

Leave a Comment