समस्तीपुर के सब रजिस्ट्रार के नोटों के बंडल देखकर निगरानी की टीम हुई हैरान. | Samastipur News

बिहार में भ्रष्‍टाचार से काली कमाई करने वाले अफसरों के खिलाफ निगरानी ब्‍यूरो और आर्थिक अपराध अनुसंधान इकाई की कार्रवाई का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। लगातार पड़ रहे छापों ने मोटी कमाई कर बैठे अफसरों की नींद हैरान कर दी है।

ताजा कार्रवाई में विशेष निगरानी इकाई (एसवीयू) ने सरकारी पद पर रहते हुए अवैध तरीके से आय से अधिक 1.62 करोड़ रुपए की संपत्ति अर्जित करने के आरोप में समस्तीपुर के सब रजिस्ट्रार मनी रंजन के तीन अलग-अलग ठिकानों पर सुबह सुबह छापा मारा है। छापामारी एक साथ मुजफ्फरपुर, समस्तीपुर के साथ पटना में चल रही है। बताया जा रहा है कि अब तक 30 लाख रुपए नकद इनके ठिकानों से बरामद हो चुके हैं। इसके अलावा चल और अचल संपत्ति के ढेरों कागजात की जांच निगरानी के अधिकारी कर रहे हैं।

 

नोटों के बंडल देखकर निगरानी की टीम हुई हैरान :

 

विशेष निगरानी ब्‍यूरो के एडीजी नैयर हसनैन खान के हवाले से बताया गया है कि मणि रंजन के खिलाफ केस संख्‍या 6/21 दर्ज किया गया था। वह समस्‍तीपुर के सब रजिस्‍ट्रार हैं। पटना में बिस्‍कोमान गोलंबर के समीप अगमकुआं थाना क्षेत्र के बजरंगपुरी स्थित पाटलिग्राम अपार्टमेंट में इस अधिकारी के फ्लैट में छापेमारी चल रही है। छापेमारी के दौरान पटना स्थि‍त आवास पर नोटों के बंडल देखकर निगरानी की टीम हैरान है।

 


 

आय से अधिक संपत्ति अर्जन मामले में कार्रवाई :

 

विशेष निगरानी इकाई (एसवीयू) ने सरकारी पद पर रहते हुए अवैध तरीके से आय से अधिक 1.62 करोड़ रुपए की संपत्ति अर्जित करने के आरोप में समस्तीपुर के सब रजिस्ट्रार मणि रंजन के तीन अलग-अलग ठिकानों पर सुबह सुबह छापा मारा है। मुजफ्फरपुर, समस्तीपुर के साथ पटना में की गई छापेमारी में अब तक स्पेशल विजिलेंस ने 30 लाख रुपये नकद बरामद किए हैं। कार्रवाई लगातार जारी है।

विशेष निगरानी इकाई से प्राप्त जानकारी के अनुसार समस्तीपुर के अवर निबंधक मणि रंजन पर विशेष निगरानी लंबे समय से निगाह रख रही थी। इनके बारे में कई जानकारी एसवीयू को मिली थी। लगातार इनके बारे में सबूत जुटाए जा रहे थे। कई अहम सबूत हाथ लगने के बाद एसवीयू ने पीएस एक्ट और आइपीसी की अलग-अलग धाराओं के तहत 16 दिसंबर को प्राथमिकी दर्ज की। इन पर अवैध तरीके से आय से अधिक 1.62 करोड़ रुपए की संपत्ति अर्जित करने का मुकदमा दर्ज किया गया। इसके बाद एसवीयू ने विशेष निगरानी इकाई से मणि रंजन के खिलाफ कार्रवाई की अनुमति मांगी।

 

कोर्ट की अनुमति मिलने के बाद विशेष निगरानी की टीम ने शुक्रवार की सुबह समस्तीपुर के अवर निबंध मणि रंजन के समस्तीपुर, पटना के साथ मुजफ्फरपुर के ठिकानों पर एक साथ छापा मारा। समाचार लिखे जाने के इनके ठिकानों से अब तक एसवीयू ने तकरीबन 30 लाख रुपये नकद के साथ जमीन के कुछ कागजात के अलावा कुछ अन्य महत्वपूर्ण दस्तावेज बरामद किए हैं। इनके पास से और भी संपत्ति बरामद होने की खबर है। समाचार लिखे जाने तक छापेमारी जारी थी।

Leave a Reply