Samastipur News: पूर्व मध्य रेलवे के महाप्रबंधक तरुण प्रकाश मंगलवार रात अचानक समस्तीपुर पहुंचे।

पूर्व मध्य रेलवे के जीएम अचनाक समस्तीपुर रेलवे स्टेशन पहुंचे। इससे पूर्व उन्होंने हाजीपुर से समस्तीपुर तक विंडो निरीक्षण किया। इस दौरान अमृत भारत स्टेशन योजना के तहत समस्तीपुर के चल रहे विकास कार्य का भी उन्होंने जायजा लिया एवं अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश जारी किया। बाद में समस्तीपुर स्टेशन पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि संभावित बाढ़ को देखते हुए वह निरीक्षण करने पहुंचे हैं। क्योंकि समस्तीपुर रेलवे मंडल उत्तर बिहार के इलाके में पड़ता है, जहां प्रत्येक वर्ष बाढ़ का खतरा बना रहता है।

उन्होंने मंडल प्रशासन द्वारा किए गए बाढ़ की तैयारी का जायजा लिया। रेलवे अधिकारियों द्वारा मंडल में किये जा रहे हैं बाढ़ की तैयारी पर उन्हें विस्तृत रूप से बताया गया। उन्होंने बताया कि समस्तीपुर में मधेपुरा, डेंग, पंचगछिया आदि जगहों पर स्टाक प्वाइंट बनाया गया है, जहां बोल्डर, डस्ट, सीमेंट बोरी लोड वैगन को तैयार की स्थिति में रखा गया है। जहां जरूरत पड़ने पर आवश्यकता के हिसाब से घटनास्थल के लिए मूव किया जा सके।

92 में से 80 स्टेशनों पर चल रहा है अमृत भारत स्टेशन योजना के तहत कार्य
महाप्रबंधक ने बताया कि पूर्व मध्य रेलवे के 92 स्टेशनों में से 80 स्टेशनों पर प्रथम चरण में अमृत भारत स्टेशन योजना के तहत जीर्णोद्धार का कार्य चल रहा है। इस कार्य को इसी वर्ष पूरा किया जाना है। जिसको लेकर भी उनके स्तर से समीक्षा की जा रही है, साथी रेलवे मंत्रालय भी इस कार्य की मॉनिटरिंग डे टुडे कर रहा है। इन स्टेशनों पर कार्य पूर्ण होने के बाद यात्रियों को बेहतर सुविधा उपलब्ध हो पाएगी।

समस्तीपुर स्टेशन के सर्कुलेटिंग एरिया का किया निरीक्षण
महाप्रबंधक ने समस्तीपुर स्टेशन पर स्टेशन के सर्कुलेटिंग एरिया के साथ ही स्टेशन पर चल रहे अमृत भारत स्टेशन योजना के तहत विकास कार्य का जायजा लिया और उन्होंने डीआरएम समेत इंजीनियरिंग विभाग के अधिकारियों को कार्य में और तेजी लाने का निर्देश दिया। समय सीमा के अंदर कार्य को पूर्ण करने को कहा।

   

समस्तीपुर दरभंगा रेल खंड का किया निरीक्षण
समस्तीपुर रेलवे मंडल के बाढ़ प्रभावित समस्तीपुर दरभंगा रेल खंड का उन्होंने विंडो निरीक्षण किया। इस दौरान उनके साथ डीआरएम विनय श्रीवास्तव एवं रेलवे के इंजीनियरिंग विभाग के अधिकारी भी उनके साथ थे। निरीक्षण के दौरान उन्होंने इस खंड पर बना रहे रेलवे पुलों का भी ज्यादा लिया ब्रिज नंबर 16 जो वार्ड के समय में अक्सर डूब जाता है इसके बगल में बन रहे दूसरे पुल की प्रगति की भी उन्होंने समीक्षा की। बाद में जीएम देर रात दरभंगा स्टेशन पहुंचे जहां उन्होंने क्रू लाॅबी पहुंचकर लोको पायलट और रेलवे कर्मियों से संरक्षण से संबंधित जानकारी हासिल की। मौके पर उपस्थित लोको पायलट एवं अन्य कर्मियों ने अपनी समस्याएं बताई।

Leave a Comment