K K Pathak : अचानक छुट्टी पर चले केके पाठक, शिक्षा विभाग के विवादों में नया मोड़.

बिहार शिक्षा विभाग में चल रहे विवादों के बीच एक नया मोड़ आया है। स्कूलों की टाइमिंग और शिक्षकों की छुट्टी को लेकर जारी गतिरोध के बीच शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव केके पाठक ने अचानक लंबी छुट्टी के लिए आवेदन दे दिया है। मिली जानकारी के अनुसार, उन्होंने सामान्य प्रशासन विभाग को यह आवेदन भेजा है।

भीषण गर्मी के बीच सरकारी स्कूलों की टाइमिंग सुबह 6:00 से 10:00 बजे तक कर दी गई थी, जिसका शिक्षक संघ समेत सभी शिक्षकों ने विरोध किया था। बिहार में बीते कई सप्ताह से भीषण गर्मी के चलते स्कूलों के छात्र-छात्राओं की तबीयत खराब होने और बेहोश होने के कई मामले सामने आए हैं।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस स्थिति को देखते हुए राज्य भर के सरकारी और प्राइवेट स्कूलों को 8 जून तक बंद करने का आदेश दिया था। हालांकि, इस आदेश को संशोधित करते हुए शिक्षकों की ड्यूटी फिर से लगा दी गई, जिससे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार नाराज चल रहे हैं।

केके पाठक ने अचानक छुट्टी पर जाने का फैसला किया है और इसके लिए उन्होंने आवेदन दे दिया है। उनकी छुट्टी की अवधि 3 से 30 जून के बीच बताई गई है। इसी बीच माध्यमिक शिक्षा निदेशक कन्हैया प्रसाद श्रीवास्तव भी रिटायर हो रहे हैं।

   

दो दिन पहले ही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के आदेश पर बिहार के सभी शैक्षिक संस्थानों को बंद करने का आदेश दिया गया था, जिससे बच्चों और शिक्षकों दोनों को गर्मी से निजात मिलने की उम्मीद जगी थी। लेकिन बाद में इस आदेश में संशोधन कर कहा गया कि बच्चों के स्कूल नहीं आने के लिए आदेश लागू किया गया था, जबकि शिक्षकों को अनिवार्य रूप से स्कूल में ड्यूटी देनी होगी।

स्कूल की टाइमिंग में बदलाव का शिक्षक संघ द्वारा भारी विरोध किया गया था। फिर गर्मी में स्कूलों के निरीक्षण का आदेश को लेकर भी शिक्षकों में आक्रोश बढ़ गया था। अब अचानक केके पाठक के छुट्टी पर जाने से अटकलें और चर्चाओं का दौर शुरू हो गया है।

अब देखने वाली बात होगी कि यह सभी बातें कितनी सही साबित होती हैं और इनमें कितना बदलाव होता है। साथ ही आगामी 8 जून के बाद बिहार में सरकारी और प्राइवेट स्कूलों में छुट्टी की क्या स्थिति होती है, इस पर भी अभी कोई फैसला नहीं है।

Leave a Comment