समस्तीपुर में सर्जन डॉ. डीके शर्मा ने रीढ़ की हड्डी की सर्जरी कर मरीज़ को दी नई जिंदगी. Samastipur News

समस्तीपुर, 03 मार्च, 2022 | दिव्यांशु राय

समस्तीपुर शहर के माता चंद्रकला हास्पिटल में एक बार फिर वृद्ध मरीज की रीढ़ की हड्डी का सफल सर्जरी हुआ। प्रसिद्ध हड्डी एवं नस रोग सर्जन डॉ. डीके शर्मा ने रीढ़ की हड्डी का सफल आपरेशन कर एक बार फिर से नया कीर्तिमान स्थापित किया है। आपरेशन के बाद दोनों मरीज की स्थिति में सुधार हुआ है। उजियारपुर गांव निवासी जोगी सहनी रीढ़ की हड्डी में दर्द से परेशान थे।

आम के पेड़ पर चढ़कर लकड़ी काटने के क्रम में उसके दादा नीचे गिड़ गए थे। इससे उनकी रीढ़ की हड्डी में चोट लगने से दर्द से काफी कराह रहे थे। नस में दबाव के कारण कमर के नीचे सुन्न हो गया था। हड्डी एवं नस रोग सर्जन डा. डीके शर्मा ने मरीज की स्पाइन सर्जरी की। डॉ. शर्मा ने बताया कि मरीज के रीढ़ की हड्डी का कुछ हिस्सा टूट चुका था, इससे स्पाइनल काड पर प्रेशर बढ़ने के कारण मरीज कमर के नीचे का भाग सुन्न हो गया था।

रीढ़ की हड्डी में कम से कम चीरा लगाकर नई तकनीक के द्वारा ऑपरेशन कर रीढ़ में रॉड डालकर हड्डी को जोड़ा गया। अब मरीज पहले से काफी बेहतर स्थिति में है। मरीज ने बताया कि ऑपरेशन के बाद मुङो एक नई जिंदगी जीने का एहसास हुआ है। आपरेशन में बबलू कुमार, मनोरंजन कुमार, गगन कुमार, दिलीप कुमार शर्मा, संजीव कुमार, निरंजन कुमार, राजेश वर्णवाल, पवन कुमार, गंगाराम शर्मा, रमेश कुमार सहित अन्य ने अहम भूमिका निभाई।

स्पाइन मरीजों का हो रहा बेहतर इलाज : माता चंद्रकला हॉस्पिटल की निदेशक डॉ. कल्पना ठाकुर ने बताया कि जिले में लगातार हड्डी एवं नस रोग से पीड़ित मरीजों का सफल इलाज हो रहा है। अब तक रीढ़ की हड्डी से पीड़ित लोग बड़े-बड़े शहरों में और राज्य से बाहर जाकर इलाज करवाते थे, लेकिन अब समस्तीपुर में ही मरीजों का इलाज हो रहा है। डॉ. डीके शर्मा ने बताया कि रीढ़ की हड्डी में चोट लगने की घटनाएं लगातार बढ़ रही है। गिरने की वजह से भी काफी लोग चोटिल होकर आते हैं। रीढ़ की हड्डी में चोट लगने से मरीज के शरीर के कमर का निचला हिस्सा काम नहीं करता। ऐसे मरीजों का ऑपरेशन करने की जरूरत पड़ती है।

Leave a Reply