समस्तीपुर के 78 विद्यालयों की गलती का खामियाजा हज़ारों परीक्षार्थियों को भुगतना पड़ेगा. | Samastipur News

समस्तीपुर में इंटरमीडिएट वार्षिक परीक्षा 2022 में सम्मिलित होने वाले छात्र-छात्रओं का सूचीकरण शुल्क एवं परीक्षा आवेदन शुल्क जिले के 78 विद्यालयों के प्रधान ने अब तक जमा नहीं किया है। इनकी गलती का खामियाजा परीक्षार्थियों को भुगतना पड़ सकता है।

 

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के परीक्षा नियंत्रक ने जिला शिक्षा पदाधिकारी को आदेश जारी करते हुए 18 दिसंबर तक शुल्क जमा कराने का निर्देश दिया। डीईओ ने भी मामले को गंभीरता से लेते हुए तत्काल संबंधित विद्यालयों को आदेश जारी कर दिया है। विदित हो कि इंटर वार्षिक परीक्षा में सम्मिलित होने वाले छात्र-छात्रओं का ऑनलाइन सूचीकरण आवेदन तथा परीक्षा आवेदन शिक्षण संस्थान के प्रधान के माध्यम से भरा गया है।

छात्रों की प्रायोगिक परीक्षा 10 से 20 जनवरी 2022 तक आयोजित होनी है। इसके लिए ऑनलाइन प्रवेश पत्र जारी किया जाना है। वैसे छात्र-छात्र जिनका सूचीकरण अथवा परीक्षा आवेदन भरे जाने के मद में शुल्क उनके शिक्षण संस्थान के प्रधान के माध्यम से समिति में ऑनलाइन जमा किया गया है, उनका प्रायोगिक विषयों की परीक्षा में सम्मिलित होने हेतु प्रवेश पत्र जारी किया जाएगा। इसके अलावा जिन छात्रों का उक्त मद में शुल्क जमा नहीं है उनका प्रवेश पत्र जारी नहीं किया जाएगा।

 

42.32 लाख रुपये बकाया :

 

बोर्ड की मानें तो जिन छात्रों का विद्यालय प्रधान ने अभी तक शुल्क जमा नहीं किया है, उन सभी का शुल्क मिलाकर 42 लाख 32 हजार 90 रुपया हो रहा है। बोर्ड ने स्पष्ट कहा है कि 18 दिसंबर तक शुल्क जमा नहीं होने पर छात्र-छात्रओं का प्रवेश पत्र जारी नहीं किया जाएगा। बोर्ड के अनुसार रजिस्ट्रेशन शुल्क से अधिक परीक्षा शुल्क बकाया है। बोर्ड ने फटकार लगाते हुए कहा है कि कई बार शुल्क जमा करने हेतु अवसर दिए जाने के बाद भी जिले के 78 विद्यालयों के प्रधान ने शुल्क जमा नहीं किया। जो किसी भी दृष्टिकोण से वांछनीय नहीं है। साथ ही यह वित्तीय अनियमितता का द्योतक है।

 

वेबसाइट पर बकाया राशि की अपलोड की गई जानकारी :

 

जिले के जिन शिक्षण संस्थान के प्रधान द्वारा सूचीकरण आवेदन तथा परीक्षा आवेदन मद में बकाया शुल्क अभी तक जमा नहीं किया गया है। उनकी सूची समिति के वेबसाइट पर भी अपलोड कर दी गई है। शिक्षण संस्थान के प्रधान अपने यूजर आईडी एवं पासवर्ड के माध्यम लॉग इन कर कितने परीक्षार्थियों का कितना राशि जमा नहीं किया है, समिति के उक्त वेबसाइट पर देख सकते है।