समस्तीपुर में जीनोम सिक्वेंसिग जांच के लिए भेजा गया 8 सैंपल, नहीं मिल रहा रिपोर्ट. Samastipur News

 

समस्तीपुर(Samastipur News) जिले में कोरोना संक्रमण काफी तेज रफ्तार से बढ़ रहा है, इसमें कोई दो राय नहीं है। कितु जिले में इतनी तेजी से फैल रहा कोरोना का संक्रमण ओमिक्रोन का है या डेल्टा वैरिएंट का यह अब तक राज बना हुआ है।

 

फिलहाल जिले में कोरोना से संक्रमित कुल 1283 एक्टिव मरीज होम आइसोलेशन में है। बावजूद इसके अब तक एक भी संक्रमित का मरीज के सैंपल का जीनोम सिक्वेंसिग टेस्ट रिपोर्ट नहीं आया है। जिससे यह पता चल सके कि यह कोरोना संक्रमण डेल्टा वेरिएंट का है या फिर ओमिक्रोन है। जिले(Samastipur News) में इस महीने में तीन जनवरी से अब तक कुल 8 कोरोना पॉजिटिव मरीज पाए जा चुके हैं। एक मरीज तो स्वस्थ होकर डिस्चार्ज भी हो चुका हैं। आठ संक्रमित मरीजों के सैंपल को जीनोम सिक्वेंसिग टेस्ट के लिए आइजीआइएमएस पटना भेजा गया गया। अब तक एक भी सैंपल का जीनोम सिक्वेंसिग रिपोर्ट प्राप्त नहीं हुआ है। अबतक स्पष्ट नही हो पाया है कि जिले में पाए गए पॉजिटिव मरीजों में ओमीक्रोन का वैरिएंट वाले वायरस का संक्रमण था या डेल्टा वैरिएंट का।

 

जिले(Samastipur News) में तेजी से बढ रहा संक्रमितों का आंकड़ा : गौरतलब है कि जिले में फिलहाल एंटीजन, आरटी-पीसीआर तथा ट्रूनेट विधि से ही कोविड का टेस्ट कराया जा रहा है। जिसके माध्यम से यह तो पता चल जाता है कि कोई पाजिटिव है या फिर निगेटिव है। कितु संक्रमित मरीज में कोरोना का ओमिक्रोन वेरिएंट है या नहीं, इसका पता नहीं पाया है। मालूम हो कि ओमिक्रोन का पता लगाने के लिए मरीज के सैंपल का जीनोम सिक्वेंसिग टेस्ट होना जरूरी है, तभी इस नतीजे पर पहुंचा जा सकेगा कि संक्रमित होने वाले को कोरोना का कौन सा वैरिएंट संक्रमित किया है। हालांकि बीते वर्ष मई में काफी तेजी से कोरोना संक्रमण के मामले बढ़े थे। कितु उस वक्त जो भी मामले सामने आ रहे थे, उन सभी में कोरोना के सामान्य व गंभीर लक्षण पाए जा रहे थे। लेकिन इस बार जो भी पाजिटिव मामला पाया जा रहा हैं, उसमें से अधिकांश मामले बिना लक्षण वाले ही पाए जा रहे हैं।

Leave a Reply