रेफरल अस्पताल बनकर रह गया हैं समस्तीपुर सदर अस्पताल, इलाज की जगह किया जाता हैं रेफर. Sadar Hospital Samastipur

Sadar Hospital Samastipur: समस्तीपुर सदर अस्पताल की स्थिति सुधरने का नाम नहीं ले रही है।अस्पताल प्रशासन व चिकित्सकों के बीच सामंजस्य नहीं होने के कारण इसका खामियाजा मरीजों को भुगतना पड़ रहा है।

मंगलवार को सड़क दुर्घटना में भर्ती एक मरीज को इमरजेंसी वार्ड से रेफर कर दिया गया। विभूतिपुर थाना क्षेत्र के नरहन गांव निवासी अवध के 17 वर्षीय पुत्र पुष्कर कुमार सड़क दुर्घटना में गंभीर रूप से जख्मी हो गए। उसका हाइड्रोसिल फट गया था।

गंभीर हालत में इलाज के लिए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र विभूतिपुर में ले जाया गया। जहां से उसे सदर अस्पताल रेफर किया गया। परिजन मरीज को लेकर इमरजेंसी वार्ड में पहुंचे। यहां पर भी आन ड्यूटी चिकित्सक डा. निर्मल चौधरी ने मरीज का उपचार शुरू किया। सर्जन की आवश्यक होने पर नोडल पदाधिकारी को जानकारी दी गई।

सूचना मिलते ही नोडल पदाधिकारी डा. नागमणि तत्काल मौके पर पहुंचे। इसके बाद मरीज को डीएमसीएच रेफर कर दिया गया। लेकिन, परिजनों ने इलाज नहीं होने पर मरीज की जान बचाने के लिए उसे निजी अस्पताल में ले गए। विदित हो कि सदर अस्पताल में दो-दो सर्जन पदस्थापित है। सर्जन का ड्यूटी इमरजेंसी वार्ड में नहीं लगाया गया है। इस वजह से उन्हें ऑन कॉल रखने का प्रावधान है। इस वजह से गंभीर मरीजों का इलाज कराने में समस्या उत्पन्न हो रही है।

Leave a Reply