समस्तीपुर : बोनस की घोषणा नहीं होने से रेल कर्मियों में असंतोष , दुर्गा पूजा से पहले बोनस देने की मांग की.

समस्तीपुर। पूर्व मध्य रेलवे मजदूर संघ,के रेल कर्मियों ने बोनस दुर्गा पूजा के पहले भुगतान करने की मांग रेल प्रशासन से की और बी.एम.एस.बी आर. एम. एस. के आह्वान पर समस्तीपुर स्टेशन सहित रेल मंडल के मुक्तापुर, दरभंगा, बापूधाम मोतिहारी, सहरसा आदि स्टेशनों पर केंद्र सरकार के श्रम विरोधी नीतियों के खिलाफ प्रदर्शन किया।

ईस्ट सेंट्रल मजदूर संघ ने समस्तीपुर मंडल में रेलवे प्रशासन को से मांग करते हुए चेतावनी दी है। यदि बोनस का भुगतान नहीं किया जाता है, तो रेलवे से संबद्ध सभी रेल कर्मचारी संगठन रेल हड़ताल का रास्ता चुनेंगे। जिसकी संपूर्ण जिम्मेदारी रेल प्रशासन की होगी। ज्ञातव्य है कि रेल प्रशासन ने गत वर्ष रेल कर्मचारियों को 74 दिन का बोनस दिया था इसकी मांग इस वर्ष भी रेल कर्मचारी कर रहे हैं।

उक्त जानकारी देते हुए रविवार को संघ के केंद्रीय सहायक महामंत्री डॉo जितेंद्र कुमार कंचन ने कहा कि रेलवे में कर्मचारियों को 1973 से मिलने वाली बोनस के प्रति रेल कर्मचारियों के साथ साथ उसके पूरे परिवार बोनस के प्रतीक्षा रहती है । देश के विकास मे रेलवे कर्मचारी का योगदान की सर्वत्र सराहना इस कोरोना काल में भी जब समूचा देश लॉकडाउन में था, तब रेलवे माल ढुलाई कर लोगों की मदद करने में कभी कोई कोताही नहीं बरती है। लेकिन आज भारत सरकार के द्वारा रेल कर्मचारियों को बोनस नहीं दी जा रही है।

बताया गया है कि कर्मचारी यूनियन 16 अक्टूबर से भारत सरकार के श्रम विरोधी नीतियों के खिलाफ एवं बनाए तीन नए श्रम कानून में भारतीय मजदूर मजदूर विरोधी प्रावधानों और सरकारी संस्थानों का निजीकरण सहित रेलवे कर्मचारी का बोनस देने की मांग को लेकर चेतावनी सप्ताह मना रही है।

इस कार्यक्रम का नेतृत्व दरभंगा मे कैलाशपति झा, बपुधाम मोतिहारी मे अरुण कुमार राय, सहरसा मे आशीत कुमार सिंह, मुक्तापुर मे मंडल अध्यक्ष मुन्द्रिका प्रसाद सिंह, अभियंत्रण विभाग मे मंडल मंत्री विनोद कुमार कर्ण ने किया। इस कार्यक्रम मे केन्द्रीय संगठन मंत्री विजय कुमार चौरसिया, डीजल शेड शाखा सचिव शैलेन्द्र कुमार सिंह, आउट डोर सचिव शंभुनाथ सिंह, अध्यक्ष शशिकांत आनंद, मंडल संगठन मंत्री नीलेश कुमार के साथ मण्डल उपाध्यक्ष आनन्द कुमार वर्मा भी उपस्थित थे।

इधर, रेल महकमे में यह बात भी जोर पकड़ने लगा है कि कोरोना काल में शायद ही कर्मियों को बोनस मिले। इससे निराश समस्तीपुर रेलवे मंडल के एक तृतीय श्रेणी कर्मी ने बताया कि केंद्र सरकार तो पहले से ही रेल कर्मियों को मिलने वाली सुवाधाएं कम कर रही है। ऐसे में इस बार तो रेलवे के पास कोरोना के कारण लागू लॉकडाउन का भी बहाना है। उन्होंने आगे कहा कि हां, यह बात सही है कि यात्री ट्रेने नहीं चलने से रेलवे को काफी नुकसान हुआ है, लेकिन मालवाहनों से कमाई में कोई कमी नहीं आई है। वैसे भी रेलवे को अब निजी हाथों में देने की तैयारी है तो ऐसे में हमारा बोनस इसबार सरकार देगी या नहीं, इसपर संशय है।