समस्तीपुर डीजल शेड के इंजीनियर ने एक नहीं 6 रेल इंजन को बेचा. Railway Scam Samastipur

Railway Scam Samastipur: समस्तीपुर रेलवे मंडल के पूर्णिया कोर्ट स्टेशन से पुराना भाप इंजन बेचे जाने के मामले में नया खुलासा हुआ है। रेलवे की आरपीएफ, विजिलेंस व रेलवे बोर्ड की टीम ने जांच में पाया है कि पूर्णिया कोर्ट स्टेशन के पास रखा एक नहीं छह इंजन का स्क्रैप गायब है। टीम को शक है कि इन सभी इंजनों को डीजल शेड के इंजीनियर राजीव रंजन झा ने स्क्रैप कारोबारी के साथ मिलकर गायब किया है। गायब स्क्रैप का मूल्य अब करोड़ों का हो गया है। पूरे मामले पर नजर रख रहे आरपीएफ के आईजी सर्वप्रिय मयंक ने कहा कि जांच में कई तरह की बात सामने आ रही है। पूर्णिया से और भी स्क्रैप गायब हैं।

अब तक गिरफ्त में नहीं आया मास्टरमाइंड इंजीनियर:

मामले का मास्टर माइंड सीनियर सेक्शन इंजीनियर आरआर झा व कर्मी सुशील यादव पुलिस की गिरफ्त में नहीं आया है। आरपीएफ की स्पेशल टीम मुंगेर, भागलपुर, पटना के अलावा गोरखपुर में छापेमारी कर चुकी है। मुख्य आरोपी स्क्रैप कारोबारी पंकज ढनढनिया भी पकड़ में नहीं आया है। सूत्रों का दावा है कि सभी नेपाल में छिपे हुए हैं।

छह इंजन पूर्णिया कोर्ट में रखे गए थे:

आरपीएफ, रेलवे विजिलेंस व रेलवे बोर्ड की टीम ने पाया है कि करीब दो दशक पूर्व विभिन्न स्टेशन से छह भाप इंजनों को पूर्णिया कोर्ट स्टेशन के पास रखा गया था। आज की तारीख में सभी इंजन गायब हैं। इसके बारे में रेलवे अधिकारी के पास कोई रिकाॅर्ड नहीं है। माना जा रहा है कि सभी इंजन को स्क्रैप बनाकर बेच डाला है।

 

कुछ और भी स्क्रैप गायब हैं, हर खुलासे पर है नजर:

खुलासे पर नजर रखी जा रही है। कुछ और स्क्रैप गायब हैं। आरपीएफ के अलावा विजिलेंस व रेलवे बोर्ड की टीम भी जांच कर रही है। आरोपी की गिरफ्तारी के लिए स्पेशल टीम काम कर रही है। किसी भी स्तर पर कोई बचने वाला नहीं है। -एस मयंक,आईजी आरपीएफ

करोड़ों का घपला : रेलवे के इंजीनियर और स्क्रैप कारोबारी के बीच डील के तहत गायब किए गए रेल इंजन
– राजीव रंजन झा

Leave a Reply