समस्तीपुर में पिछले कई दिनों से घर-घर में लोग बीमार, पर खाली हैं अस्पताल. | Samastipur News

समस्तीपुर में पिछले कई दिनों से जारी भीषण शीतलहर एवं कंपकपाती ठंड के कारण जनजीवन अस्तव्यस्त है। वहीं ठंड के कारण बच्चों से लेकर बुजुर्ग ठंड जनीत बीमारी से ग्रसित हो रहे हैं। औसतन शहर से लेकर गांव तक हर घर में बच्चे या बुजुर्ग बीमार पड़ रहे हैं, लेकिन सरकारी व निजी अस्पतालों में नहीं पहुंच रहे हैं।

 

जिसके कारण सदर अस्पताल के ओपीडी में इन दिनों मरीजों की संख्या आधी से भी कम हो गयी है। पिछले कई दिनों से मात्र डेढ़ से दौ सौ के करीब ही मरीज ओपीडी में पहुंच रहे हैं। बुधवार को भी कुछ ऐसी ही स्थिति थी। सदर अस्पताल के शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. नागमणि राज ने बताया कि बच्चों में सर्दी, खांसी, बुखार, निमोनिया के अलावे उल्टी व दस्त की शिकायत आ रही है। इसमें प्रतिदिन चार से पांच बच्चों को वाष्प देकर छोड़ दिया जाता है।

 

वहीं यही हालात बुजुर्गों की भी है। गंभीर स्थिति होने पर ही अस्पताल पहुंच रहे हैं। इसमें अधिकांश दमा, ब्लड प्रेशर व हर्ट से संबंधित मरीज आ रहे हैं। जरुरत के हिसाब से इमरजेंसी में इलाज कर पुन: छोड़ दिया जा रहा है। मरीजों की संख्या ठंड के कारण कम हो गयी है। सदर अस्पताल के डीएस डॉ. गिरीश कुमार ने बताया कि अभी महज डेढ़ से दौ सौ ही मरीज पहुंच रहे हैं। ठंड जनित बीमारी की संख्या अधिक है। भर्ती करने की जरुरत नहीं पड़ रही है।

 

फोन पर ही डॉक्टर से ले रहे हैं परामर्श :

सर्दी-खांसी व बुखार होते ही शहर से लेकर गांव तक लोग स्वयं अपने स्तर से इलाज करवा रहे हैं। बीमार मरीज अपने संपर्क के डॉक्टरों से फोन पर ही सलाह लेकर दवा ले रहे हैं। एक तो कोरोना संक्रमण का डर और फिर यह भीषण शीतलहर की परेशानी से बचने के लिए फोन पर ही डॉक्टर से सलाह लेना उचित समझ रहे हैं।

Leave a Reply