समस्तीपुर से दरभंगा जाना होगा आसान, जिले की चार सड़कों से मिलेगी सफर को रफ्तार. | Samastipur News

दरभंगा जिले में इन दिनों विभिन्न सड़क परियोजनाओं के लिए भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया चल रही है। कुछ प्रारंभिक चरण में तो है कुछ अंतिम चरण में। इन परियोजनाओं के पूरा होने से ना केवल आवागमन सुलभ होगा, बल्कि इन परियोजनाओं के लिए होने वाले भूमि अधिग्रहण से रैयत मालामाल होंगे। एक ही स्थान जाने के लिए कई सड़क खंडों के होने से लोगों के समय की बचत होगी। सबसे अधिक फायदा दरभंगा-समस्तीपुर आने-जाने वालों को मिलेगा।

 

आने वाले दिनों में दरभंगा से समस्तीपुर आने-जाने के लिए एक नहीं, दो नहीं चार-चार मार्ग होंगे। इनमें वर्तमान सड़क खंड दरभंगा-समस्तीपुर (राष्ट्रीय राजमार्ग-322), बहेड़ी-समस्तीपुर, भारतमाला (राष्ट्रीय राजमार्ग-119 डी) और रोसड़ा-बहेड़ी-दरभंगा (राष्ट्रीय राजमार्ग 527 ई) शामिल है। इनमें भारतमाला और रोसड़ा-बहेड़ी-दरभंगा (राष्ट्रीय राजमार्ग 527 ई) नई सड़क परियोजना है। साथ ही वर्तमान सड़क दरभंगा-समस्तीपुर राष्ट्रीय राजमार्ग 322 का चौड़ीकरण कार्य भी किया जाएगा। इसे फोर लेन बनाया जाएगा। इसके बाद सड़कों पर गाड़ियां बिना जाम के फर्राटे भरेंगी।

सड़क परियोजनाएं बदलेंगी रैयतों की किस्मत, रोजगार का होगा सृजन :

विभिन्न सड़क परियोजनाओं के आने से रैयतों की आर्थिक स्थिति मजबूत होगी। जिले में लघु उद्योगों का जाल बिछेगा। लोगों को रोजगार के अवसर मिलेंगे। यानि भूमि अधिग्रहण कर रैयतों के बीच मुआवजा बांटने की तैयारी हो चुकी है। कुछ पर प्रारंभिक चरण में काम शुरू हो चुका है। जल्द ही इन परियोजनाओं के लिए भी भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी।

वहीं एक साथ कई कनेक्टिग रोड बनने से लोग बिना शहर में प्रवेश किए अपने गंतव्य या फिर राष्ट्रीय राजमार्ग से सीधे जुड़ जाएंगे। इससे समय की भी बचत होगी। इन परियोजनाओं के पूरा होने से दरभंगा से समस्तीपुर जाने के लिए एक साथ कई सड़क खंड जुड़ जाएंगे। मसलन, वर्तमान में दरभंगा से यदि कोई समस्तीपुर जाना चाहे तो उसे पूरे शहर से होकर पहले लहेरियासराय आना पड़ता है, फिर दरभंगा-मुसरीघरारी सड़क खंड पर जाना होता है। इससे करीब एक घंटे से अधिक का समय बर्बाद होता है।

इन परियोजनाओं पर चल रहा काम :

जिले में एक साथ कई सड़क परियोजनाओं के लिए भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया चल रही है। इनमें मंझौल-चिरौत (राष्ट्रीय राजमार्ग 527 सी), विदेश्वर स्थान-भेजा, भारतमाला परियोजना, दरभंगा-जयनगर (राष्ट्रीय राजमार्ग 105), रोसड़ा-बहेड़ी-दरभंगा (राष्ट्रीय राजमार्ग 527ई), मुसरीघरारी-दरभंगा (राष्ट्रीय राजमार्ग-322)। इनमें मंझौल-चिरौत सड़क खंड के लिए कुल 9.75 हेक्टेयर, विदेश्वरस्थान-भेजा के लिए कुल 1.0738 हेक्टेयर, भारतमाला परियोजना के लिए कुल 144.792 हेक्टेयर, रोसड़ा-बहेड़ी-दरभंगा के लिए कुल 61.054 हेक्टेयर, मुसरीघरारी-दरभंगा के लिए कुल 28.5244 हेक्टेयर भूमि का अधिग्रहण किया जाना है।

Leave a Reply