समस्तीपुर में 15 अगस्त से एप के जरिए मिलेगी इंज्यूरी रिपोर्ट, बंद होगी इंज्यूरी रिपोर्ट में धांधली. Injury Report Through App

Injury Report Through App: समस्तीपुर में अब मारपीट, हत्या के प्रयास, दुर्घटना में घायल या मौत मामले में इंज्यूरी रिपोर्ट लेने के लिए पुलिस या पीड़ित को भाग-दौड़ नहीं करनी पड़ेगी। केस के आइओ क्षणभर में एप से यह रिपोर्ट देख सकेंगे। रिपोर्ट के आधार पर आरोपित पर धारा लगा सकेंगे तथा दुर्घटना में घायल या मृतक के मुआवजे की अनुशंसा कर सकेंगे। इंजरी रिपोर्ट इंफारमेशन सिस्टम नाम से बने एप को समस्तीपुर में 15 अगस्त को लांच किया जाएगा।

पुलिस व पीड़ित दोनों को सहूलियत देने वाले इस एप में चार विभिन्न स्तरों से इसके क्रियान्वयन व अनुश्रवण की व्यवस्था की गई है। जिलाधिकारी ने इसकी अनुमति दे दी है। सदर अस्पताल परिसर स्थित एसएनसीयू के समीप सभा कक्ष में गुरुवार को सभी उपाधीक्षक और प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी को प्रशिक्षित किया गया। एप के प्रशिक्षक निशांत शेखर ने उपयोग से संबंधी जानकारी विस्तारपूर्वक दी। मौके पर सिविल सर्जन डा. संजय कुमार चौधरी, उपाधीक्षक डा. आरपी मंडल, डीपीएम एसके दास, अस्पताल प्रबंधक विश्वजीत रामानंद आदि उपस्थित रहे। जिलास्तर पर ही होंगे एडमिन, बनाएंगे जरूरी यूजर

जिलास्तरीय एडमिन ही इसके जरूरी यूजर बनाएंगे। अस्पताल स्तर पर एडमिन सभी संबंधित पीएचसी के चिकित्सकों को यूजर के रूप में उनके मोबाइल नंबर को निबंधित करेंगे। चिकित्सक घटना-दुर्घटना में घायल अंगों की फोटो उसके या उसके अभिभावक की सहमति से लेकर इस एप में अपलोड करेंगे। अन्य आवश्यक जानकारियां भी एप में रहेंगी।

चिकित्सकों का बनाया जा रहा यूजर आईडी व पासवर्ड: Injury Report Through App

डीएम के निर्देश के आलोक में सदर अस्पताल के अस्पताल प्रबंधक विश्वजीत रामानंद को जिलास्तरीय एडमिन बनाया गया है। अस्पताल प्रबंधक जिले के सभी चिकित्सकों का यूजर आईडी तैयार कर रहे है। जिले में कुल 250 से अधिक चिकित्सकों की सूची तैयार की गई है। सभी का एप में नाम, मोबाइल नंबर और पदस्थापित स्वास्थ्य संस्थान दर्ज किया जा रहा है। जिसके आधार पर यूजर आईडी व पासवर्ड भी तैयार होगी।

पंजीकृत मोबाइल पर ओटीपी जांच के उपरांत ही यूजर आईडी एवं पासवर्ड से उपयोग किया जा सकेगा। घायल का इलाज करने के उपरांत एप पर अपलोड करनी होगी जानकारीआनलाइन जख्म रिपोर्ट तैयार करने के लिए एंड्रायड मोबाइल एप्लीकेशन है। इस एप्लीकेशन से घायल अवस्था में आए व्यक्ति का आनलाइन जख्म रिपोर्ट तैयार किया जाएगा। इलाज के क्रम में चिकित्सक अपने पंजीकृत मोबाइल से जख्मी भाग का फोटो एवं चेहरा का फोटो ले लेंगे।

थाना से एफआइआर संख्या, तिथि एवं अधियाचना पत्र अपलोड कर फाइनल जख्म प्रतिवेदन बना सकते हैं। चिकित्सक द्वारा जख्म रिपोर्ट फाइनल करने के पूर्व हस्ताक्षरित जख्म प्रतिवेदन अपलोड करने की सुविधा भी रहेगी। जिसे संबंधित थानाध्यक्ष या अन्य संबंधित अधिकारी द्वारा डाउनलोड कर उपयोग किया जा सकता है।

Leave a Reply