Samastipur News : पुण्यतिथि पर याद किए गए पूर्व रेलमंत्री, मेयर अनिता राम ने कहा – ‘ललित बाबू को मैथिली से अगाध प्रेम था.’

Samastipur News : मेयर अनिता राम ने कहा कि मैथिली की साहित्यिक संपन्नता और विशिष्टता को देखते हुए 1963-64 में ललित बाबू की पहल पर प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने उसे ‘साहित्य अकादमी’ में भारतीय भाषाओं की सूची में सम्मिलित किया. उन्होंने मिथिलांचल की राष्ट्रीय पहचान बनाने के लिए पूरी तन्मयता से प्रयास किया.

Samastipur News : पूर्व रेल मंत्री ललित नारायण मिश्रा की 49वीं पुण्यतिथि पर मंगलवार को समस्तीपुर रेलवे प्लेटफॉर्म संख्या -02 पर स्थित शहीद स्थल पर लोगों ने पुष्पांजलि अर्पित कर उन्हें नमन किया गया। इस अवसर पर समस्तीपुर नगर निगम की नवनिर्वाचित मेयर अनिता राम ने कहा कि ललित बाबू को अपनी मातृभाषा मैथिली से अगाध प्रेम था। यही वजह है उन्होंने रेलमंत्री रहते हुए मिथिला में रेल के कई रेल परियोनाओं को शुरू किया था।

मेयर अनिता राम ने कहा कि मैथिली की साहित्यिक संपन्नता और विशिष्टता को देखते हुए 1963-64 में ललित बाबू की पहल पर प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने उसे ‘साहित्य अकादमी’ में भारतीय भाषाओं की सूची में सम्मिलित किया। उन्होंने मिथिलांचल की राष्ट्रीय पहचान बनाने के लिए पूरी तन्मयता से प्रयास किया।

कांग्रेस नगर अध्यक्ष ने कहा कि मिथिलांचल की राष्ट्रीय पहचान बनाने के ललित बाबू ने लखनऊ से असम तक लेटरल रोड की मंजूरी कराई थी। जो मुजफ्फरपुर और दरभंगा होते हुए फारबिसगंज तक की दूरी के लिए स्वीकृत हुई थी।

कार्यक्रम ली अध्यक्षता कांग्रेस नगर अध्यक्ष डोमन राय, संचालन वरीय कांग्रेस नेता रंजन शर्मा एवं धन्यवाद ज्ञापन कांग्रेस नेता सूरज राम ने की। मौके पर ठाकुर मनोज भारद्वाज, पूर्व प्राचार्य भुपनेश्वर राम, सरोज सिंह आदि लोग उपस्थित थे।

यह भी पढ़े :  Samastipur News : समस्तीपुर में भीषण सड़क हादसा ! ऑटो-ट्रैक्टर की टक्कर में 6 लोग जख्मी, 2 लोग पीएमसीएच रेफर.

इधर, ललित नारायण बाबू को भूला रेलवे प्रशासन :

पूर्व रेलमंत्री ललित नारायण मिश्रा की आज 49वीं पुण्यतिथि थी। डीआरएम कार्यालय गेट पर उनकी प्रतिमा भी लगी हुई है। लेकिन रेलवे अधिकारी उन्हें भूल गए। रेलवे मंडल में रेल राज्य मंत्री के कार्यक्रम के कारण रेलवे अधिकारी बगहा क्षेत्र में गए हुए थे। इस कारण स्थानीय स्तर पर उपस्थित अधिकारियों ने भी उन्हें याद करना मुनासिब नहीं समझा। डीआरएम आलोक अग्रवाल ने बताया कि वह रेल राज्य मंत्री के कार्यक्रम के कारण मुख्यालय में नहीं हैं।