समस्तीपुर में शिक्षा का सपना आरटीई से हुआ “अपना” 3756 बच्चों का निजी स्कूल में दाखिला. Dream Of Education

शिक्षा का अधिकार अधिनियम के तहत जिले के सीबीएसई से संबंद्ध निजी विद्यालयों में प्रवेश की 25 फीसद सीट पर गरीब व अभिवंचित वर्ग के बच्चों का दाखिला सुनिश्चित करना है। शिक्षा विभाग की ओर से इस दिशा में सकारात्मक कार्रवाई की जा रही है। विभाग की तमाम कोशिशों के बावजूद रिक्ति के विरुद्ध निजी विद्यालयों में गरीब बच्चों का नामांकन नहीं होता है। विभागीय आंकड़ों के अनुसार जिले में 494 निबंधित निजी विद्यालय संचालित हैं। Dream Of Education

वर्ष 2009 में शुरू हुआ था शिक्षा का अधिकार अधिनियम

विद्यालय के संचालकों ने आरक्षित सीटों के विरुद्ध सिर्फ 3756 गरीब बच्चों का नामांकन लिया है। वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिए विभागीय स्तर पर 2.81 करोड़ रुपये आवंटित किया गया। पिछले वित्तीय वर्ष में जिले में साढ़े तीन हजार से अधिक बच्चे निजी स्कूलों में निशुल्क शिक्षा का लाभ पा रहे थे।Dream Of Education

गत सत्र में इस नियम के तहत 3756 बच्चों को जिले के विभिन्न निजी स्कूलों में दाखिला दिलाया गया। चूंकि हर अभिभावक अपने बच्चे को बेहतर शिक्षा दिलाने का सपना देखता है। काफी हद तक अपनी सामर्थ्य के अनुसार पूरा करने की कोशिश भी करता है। कई बार अभिभावकों के सामने उनकी आर्थिक स्थिति रोड़ा बन जाती है। इस कारण वह अपने बच्चों को निजी स्कूल में दाखिला नहीं दिला पाते हैं।Dream Of Education

ऐसे बच्चों के निजी विद्यालय के अच्छे भवन में शिक्षा दिलाने के लिए वर्ष 2009 में शिक्षा का अधिकार अधिनियम शुरू किया गया। हर निजी स्कूल के सामने यह शर्त रखी गई कि वह अपने विद्यालय में 25 प्रतिशत सीट निर्धन छात्रों के लिए आरक्षित करें।Dream Of Education

यह भी पढ़े :  कोरोना के नए वेरिएंट ओमीक्रोन को लेकर समस्तीपुर में 27 विदेशी लौटे हैं घर. | Corona Update Samastipur

25 फीसदी सीटों पर बीपीएल का नामांकन नहीं

शिक्षा के अधिकार अधिनियम, 2009 के तहत सभी स्कूलों को प्रथम कक्षा में 25 प्रतिशत सीटों पर दाखिला आसपास के बीपीएल परिवार के बच्चों को लेना है। पिछले साल स्कूलों का कहना था कि बीपीएल छात्र ही नामांकन लेने नहीं आए तो स्कूल क्या करे।Dream Of Education

लेकिन इस बार भी न तो सरकार की ओर से इसे लेकर बीपीएल परिवारों को कोई जानकारी दी गई और न ही स्कूलों की ओर से। नामांकन के बाद फिर स्कूल कहेंगे कि बीपीएल बच्चे नहीं आए तो क्या करें। जिला शिक्षा पदाधिकारी मदन राय के अनुसार जिले में फिलहाल 494 निजी विद्यालय निबंधित हैं।Dream Of Education

इन विद्यालयों में आरटीई के तहत 25 प्रतिशत छात्रों का नामांकन होना है। विद्यालयों में नामांकन को लेकर आवश्यक दिशा निर्देश दिया गया है।Dream Of Education