समस्तीपुर में ससुर के अंतिम दर्शन को पहुंची बहु को पति ने घर में नहीं दिया प्रवेश. | Samastipur News

समस्तीपुर, 06 दिसंबर, 2021 | संवाददाता

 

समस्तीपुर में दहेज प्रताड़ना को लेकर पहले से चल रहे मामले में एक बार फिर महिला को अपनी ससुराल में प्रवेश करने पर रोका गया है। जिसको लेकर महिला ने मुफस्सिल थाने में लिखित आवेदन देकर कार्रवाई की मांग की है।

 

जानकारी के अनुसार मुफस्सिल थाना क्षेत्र के दुधपुरा पंचायत के बलभद्रपुर गांव निवासी न्यायिक अधिकारी अजित कुमार के खिलाफ उनकी पत्नी वैदेही कुमारी ने दहेज के लिए बार – बार प्रताड़ित करने और मारपीट किए जाने का आरोप लगाते हुए मुफस्सिल थाने में लिखित आवेदन देकर कार्रवाई की मांग की है। वैदिक कुमारी ने अपने आवेदन में कहा है कि बीते दिनों उनके ससुर की मौत हो गई थी जिसके बाद वह अपने ससुराल पहुंची थी। लेकिन ससुराल पक्ष के लोगों ने उन्हें घर में अंदर प्रवेश करने नहीं दिया एवं उनके साथ मारपीट की।

 

 

जिसके बाद उन्होंने मुफस्सिल थाने को सूचना दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने भी ससुराल पक्ष के लोगों को समझाने का प्रयास किया, उसके बाद भी उन्हें अंदर प्रवेश नहीं करने दिया गया। जिसके बाद कार्रवाई को लेकर उन्होंने मुफस्सिल थाने में लिखित आवेदन देकर कार्रवाई की मांग की है।

 

वहीं इस मामले में उन्होंने बताया कि दहेज प्रताड़ना एवं मारपीट को लेकर उन्होंने पति और ससुराल वालों पर पूर्व में भी एक मामला दर्ज करवाया था, जो मामला अभी कोर्ट में लंबित चल रहा है। फिलहाल मुफस्सिल थाने में आवेदन दे दी गई है पुलिस ने परिजनों को उचित कार्रवाई करने का आश्वासन दिया है।

 

वहीं पीडि़ता वैदेही देवी के भाई ने बताया कि उसके पिता होम्योपैथ के एक चिकित्सक थे। वर्ष 2013 में ह‍िंदू रीति रिवाज से मुफस्सिल थाना के बलभद्रपुर निवासी रामेश्वर साह के पुत्र अजीत कुमार से शादी रचाई। उसका पति पढऩे में मेधावी था। लेकिन ससुराल के लोग काफी विपन्न थे।

 

शादी के बाद पिता ने ससुराल में पति अजीत कुमार के नाम सड़क किनारे भूमि खरीदी और आधुनिक डिजाइन का मकान बना दिया। घरेलू सभी सामान की व्यवस्था कर दी। इसमें 25 से 30 लाख रुपये खर्च हुए। शादी में उपहार स्वरूप 11 लाख रुपये नकद भी दिया। वर्ष 2016 में पिता की मृत्यु के बाद उन्होंने भी उनकी पढाई लिखाई और घरेलू खर्च का प्रबंध जारी रखा।

 

वर्ष 2020 में जब अजीत कुमार को न्यायिक सेवा में नौकरी मिली तो उसने और ससुराल वालों ने दहेज़ में कार, पांच लाख रुपये और पटना में फ्लैट खरीदने के लिए 40 लाख रुपये दहेज की मांग करने लगे। मांग पूरी नहीं होने पर ससुराल वाले लगातार उनकी बहन को प्रताडि़त करते हुए हत्या की धमकी दे रहे थे। सास, ससुर व ननद घर में बंद कर मारपीट करते थे। खाना-पानी और दवा तक की कोई व्यवस्था न थी। बीते 17 मार्च 21 को पति और ससुराल वालों ने मारपीट करते हुए हत्या की भी कोशिश की।

 

लोहे के रॉड से हमला कर गंभीर रूप से जख्मी कर दिया था। इसमें दायां हाथ टूट गया था। स्थानीय लोगों से जानकारी मिलते ही उन्होंने स्थानीय पुलिस को सूचना दी। जिसके बाद किसी तरह उसकी जान बची थी।