समस्तीपुर का लड़का – वैशाली की लड़की, आखिरकार कर ही दी बड़ी गलती. | Samastipur News

कोचिंग के लिए निकली एक छात्रा का अपहरण कर लिया गया। देर शाम तक जब वह नहीं लौटी तब स्‍वजनों को घटना का पता चला। जब यह जानकारी मिल गई कि किसने उसे भगाया है, तब स्‍वजन उसके घर गए।वे लोग आश्‍वासन देते रहे कि लड़की को वापस मंगवा देंगे। लेकिन ऐसा किया नहीं। तब पुलिस की शरण ली गई। इसमे मामले में युवक समेत उसकी मौसी व अन्‍य लोगों को आरेापित किया गया है। हैरान करने वाली ये घटना वैशाली जिले के जंदाहा थाना क्षेत्र की है। मामला प्रेम प्रसंग का भी प्रतीत हो रहा है। पुलिस जांच-पड़ताल में जुटी हुई है।

 

पढ़ने के लिए गई थी समस्‍तीपुर :

छात्रा की मां ने प्राथमिकी दर्ज कराई है। इसमें कहा है कि उनकी पुत्री समस्‍तीपुर के हलई ओपी के हलई बाजार स्थित एक कोचिंग में पढ़ती थी। उस दिन वह घर से कोचिंग के लिए ही निकली थी। लेकिन हर दिन की तरह वह लौटकर नहीं आई। देर होने पर स्‍वजनों को चिंता हुई। इसी क्रम में पता चला कि गांव की आशा देवी की बहन का बेटा सुशील कुमार अक्‍सर अपनी मौसी के यहां आता था।

 

अक्‍सर मौसी के घर आने वाले युवक ने किया अपहरण :

सुशील की नजर बेटी पर टिकी थी। उसी ने गलत नीयत से अपने स्‍वजनों के साथ मिलकर समस्‍तीपुर गई बेटी को रास्‍ते से ही अगवा कर लिया है। पूछताछ करने पर आशा देवी एवं कौशल्‍या देवी कहते कि जल्‍द उनकी बेटी को वापस मंगवा देंगे। लेकिन ऐसा किया नहीं। तब उनलोगों ने पुलिस की शरण ली। दर्ज प्राथमिकी में पातेपुर थाना के सलेमपुर सलखन्नी गांव निवासी सुशील कुमार, जितेंद्र राम एवं पुसिया देवी तथा जंदाहा थाना के हरप्रसाद गांव निवासी आशा देवी एवं कौशल्या देवी को नामजद आरोपित बनाया है। आरोप लगाया है कि इन सबने मिलीभगत कर लड़की का अपहरण किया है।