समस्तीपुर में शिवाजीनगर के चितौड़ा गांव के महावीर मंदिर के प्रांगण में श्रीमद् भागवत कथा का हुआ आयोजन. | Shivajinagar News

समस्तीपुर, 29 नवंबर, 2021 | एमडी आजम

 

आज भारत से संस्कार लुप्त होते जा रही हैं आज के युवक – युवती माता-पिता से भी संकोच शर्म नहीं करते हैं। जिसके कारण संस्कृति समाप्त होती जा रही है। उक्त बातें प्रखंड के चितौड़ा गांव के महावीर मंदिर के प्रांगण में श्रीमद् भागवत कथा के पांचवें दिन कथावाचक वेदव्यास जी महाराज ने कही। Shivajinagar News

 

उन्होंने कहा भगवान श्री कृष्ण और रुकमणी विवाह के बारे में विस्तार पूर्वक वर्णन की उन्होंने कहा क्या चाल अलबेली है श्याम चले रस्ते रस्ते हाथी मदमस्त चली पर श्याम चले हंसते-हंसते। उन्होंने कहा भगवान से प्रेम करने वाले सच्चे भक्त उन्हें दिल से पुकारता है, तो वह दौड़े चले आते हैं। उन्होंने कथा में भगवान श्री कृष्ण के पुत्र प्रद्युम्न को समरा सुर नामक असुर द्वारा उनके पुत्र को समुद्र में डाल दिए जाने और समरा सुर का अंत भगवान के पुत्र प्रद्युम्न के द्वारा किए जाने की विस्तार पूर्वक चर्चा की। Shivajinagar News

 

कहां किसी भी अत्याचारी को भगवान ने नहीं बख्शा भगवान श्री कृष्ण ने पृथ्वी पर राक्षसी प्रवृत्ति के लोगों को अंत कर शांति काइम की कथा के दौरान गांव के गणमान्य लोगों को चादर प्रदान कर सम्मानित किया गया। जिसमें स्थानीय मुखिया गजेंद्र प्रसाद सिंह, राम शगुन मंडल, कुशेश्वर सिंह, विनय कुमार, शिव शंकर मंडल, आयोजक वरुण कुमार मंडल, जामुन यादव, अर्जुन मंडल, रामाकांत मंडल सहित अन्य लोगों को सम्मानित किया गया।  मौके पर छोटे भूरा ठाकुर, गोविंद जी महाराज, विक्रम जी महाराज झांकी नायक, लेखराज जी महाराज,विकास राजपूत सहित अन्य को सम्मानित किया गया। Shivajinagar News