समस्तीपुर शराब कांड में प्राथमिकी दर्ज, शादी समारोह आयोजित करने वाले पर गैर इरादतन हत्या का आरोप. | Shivajinagar News

समस्तीपुर जिले के हथौड़ी थाना क्षेत्र के बल्लीपुर गांव में जहरीली शराब सेवन से चार की मौत के बाद जिला प्रशासन और मृतक के आश्रितों के समक्ष चुनौतियां खड़ी हो गई हैं। घटना के बाद मृतक के आश्रितों पर विपत्ति का पहाड़ टूट गया है। ग्रामीण इस घटना के बाद से स्तब्ध हैं।

मंगलवार को हुई इस घटना के बाद गांव अभी भी मातमी सन्नाटे से नहीं उबरा है। गांव में पसरे सन्नाटे के बीच कोई भी अवैध शराब बेचने वालों के खिलाफ सीधे तौर पर कुछ नहीं कह रहा है। इस सबके बीच अहम सवाल यह कि आखिरकार इन मौतों का गुनाहगार कौन। अवैध शराब बनाने वाले, बेचने वाले, अवैध धंधे को संरक्षण देने वाले, धृतराष्ट्र बनकर मौन स्वीकृति देने वाला समाज, सरकारी तंत्र या पीने वाले लोग।

जो भी हो ग्रामीण इलाके में फैले शराब धंधेबाजों के नेटवर्क ध्वस्त करना पुलिस प्रशासन के लिए किसी चुनौती से कम नहीं है। जो शराब के रूप में लोगों को मौत परोस रहे हैं। इधर, दो की मौत मामले में मृतक के चाचा के बयान पर एक प्राथमिकी दर्ज की गई है, वहीं जिलाधिकारी ने संबंधित थानाध्यक्ष व चौकीदारों से स्पष्टीकरण मांगा है।

जिले में जहरीली शराब से इस बार हुई मौत के बाद पुलिस प्रशासन अलर्ट मोड पर है। जिला पुलिस के साथ मद्य निषेध व उत्पाद विभाग द्वारा संयुक्त अभियान चलाकर सघन छापेमारी की जा रही है। धंधेबाजों में हड़कंप मचा है। पुलिस अधीक्षक मानवजीत सिंह ने सभी थानाध्यक्षों को शराबबंदी को सख्ती से लागू करने का टास्क दिया है। हरेक थाना की पुलिस अभी धंधेबाजों के नेटवर्क को खंगलाने और उसे ध्वस्त करने में जुटी है।

जिलाधिकारी शशांक शुभंकर ने बताया कि हथौड़ी थाना के बल्लीपुर में हुई इस घटना को लेकर जिलास्तरीय जांच टीम गठित की गई है। इसके अलावे लोकल जांच टीम को भी लगाया गया है। धंधेबाजों के खिलाफ अभियान चलाकर लगातार सघन छापेमारी की जा रही है। इस मामले में स्थानीय चौकीदार, प्रभारी, थानाध्यक्ष व अन्य कर्मियों से स्पष्टीकरण मांगा गया है। दोषियों को चिह्नित करने के लिए संबंधित पदाधिकारियों से शोकॉज किया गया है।

जिसकी भी संलिप्तता पाई जाएगी या लापरवाही मिलेगी। उनपर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। आखिर वहां शराब कैसे उपलब्ध हुई, इसकी भी जांच की जा रही है। उन्होंने बताया कि पूर्व में विभागीय कार्रवाई करते हुए 17 चौकीदारों को निलंबित किया गया, जो सूचना संग्रह करने में असमर्थ रहे। जिला प्रशासन द्वारा अवैध शराब की बिदुओं के मद्देनजर जांच को आगे बढ़ाया जा रहा है। अवैध शराब के धंधेबाजों के नेटवर्क को ध्वस्त करने का प्रयास जारी है।

ग्रामीण इलाके में कच्ची शराब बनाने और बेचने का काम संगठित रूप से चल रहा है। एक समूह शराब बनाने और दूसरा शराब की तस्करी में जुटता है। अलग अलग रसायनों को मिलाकर अंग्रेजी शराब की रिफलिग की जाती है। ऐसा नहीं कि यह गठजोड़ हाल में पनपा हो। इसका पता तब चलता है जब अनाड़ी हाथों से गुजरकर मिलावटी शराब जहरीली बन जाती है और कुछ मौतें होती हैं। आम तौर पर पहली नजर में पुलिस प्रशासन ऐसी मौतों को जहरीली शराब से हुई मौत मानने से ही इन्कार कर देता है, लेकिन हाल ही में हुई कई घटनाओं के बाद इसके खिलाफ विशेष अभियान चलाया जा रहा है। जिला प्रशासन द्वारा लोगों को जागरूक भी किया जा रहा है।

मृतक के स्वजनों के आधार पर नामजद प्राथमिकी दर्ज :

जहरीली शराब कांड मामले में बल्लीपुर निवासी प्रभात भारती और श्यामनाथ कामती की मौत को लेकर एक प्राथमिकी प्रभात के चाचा बिदु मंडल के बयान पर दर्ज की गई है। यह जानकारी पुलिस अधीक्षक ने दी। उन्होंने बताया कि इसमें शादी समारोह आयोजित करने वाले गृह स्वामी समेत पांच को नामजद किया गया है। बता दें कि राजकुमार कामती के घर शादी समारोह था। प्राथमिकी में कहा गया है कि इसी शादी समारोह में सभी खाने-पीने के बाद घर लौटे थे। चाचा के बयान पर गैर इरादतन हत्या की प्राथमिकी दर्ज की गई है।