समस्तीपुर में वरीयता व वित्तीय प्रभार को लेकर की गई थी प्रधान लिपिक वीरेन्द्र की हत्या. Samastipur Crime News

समस्तीपुर में आचार्य नरेंद्र देव महाविद्यालय के प्रधान लिपिक वीरेंद्र कुमार यादव की हत्या की गुत्थी सुलझाने का पुलिस ने दावा किया है। कॉलेज कर्मी ने ही हत्या की साजिश रची तथा सुपारी देकर हत्या करवाई। इस मामले में दो व्यक्तियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है जबकि अन्य 3 लोगों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी तेज कर दी गई है। Samastipur Crime News

उक्त आशय की जानकारी देते हुए डीएसपी ओमप्रकाश अरुण तथा थानाध्यक्ष संदीप कुमार पाल ने बताया कि एएनडी कॉलेज के प्रधान सहायक वीरेंद्र कुमार यादव की हत्या वरीयता तथा वित्तीय प्रभार को लेकर चल रहे पुराने विवाद के कारण की गई थी। हत्या की साजिश कॉलेज के कर्मियों ने रची थी और बाहर से बुलाकर सुपारी किलर से इस घटना को अंजाम दिया गया था। इस संबंध में कॉलेज के नाइट गार्ड कुंदन कुमार तथा कॉलेज कर्मी युगल किशोर राय के पुत्र अवध बिहारी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। Samastipur Crime News

डीएसपी ने बताया कि विगत एक वर्ष पहले जीएमआरडी कॉलेज मोहनपुर से शाहपुर उंडी निवासी युगल किशोर राय नामक कार्यालय सहायक स्थानांतरित होकर आए थे। उनके आने के पहले से ही वीरेंद्र कुमार यादव बतौर प्रधान लिपिक कार्य कर रहे थे तथा वित्तीय प्रभार में भी थे। कितु युगल किशोर राय सीनियर होने के नाते इसके लिए हमेशा महाविद्यालय प्रशासन पर दबाव डालते रहे और इसकी लिखित शिकायत भी की थी। Samastipur Crime News

इधर नैक मूल्यांकन की तैयारी को लेकर महाविद्यालय में कई कार्य कराए जा रहे थे। जिसमें सफाई, मरम्मत तथा उसके सौंदर्यीकरण का कार्य शामिल है। इन सारे कार्यों का वित्तीय प्रभार विरेंद्र कुमार यादव के जिम्मे था। पुलिस के अनुसार यह सीनियर कर्मी को नागवार गुजरा। डीएसपी ने बताया कि युगल किशोर राय ने नाइट गार्ड कुंदन कुमार के साथ मिलकर साजिश रची तथा कुंदन कुमार ने अपने फुफेरे भाई बरौनी निवासी और रौशन कुमार से हत्या की रूपरेखा तैयार की। रौशन पूर्व से ही आपराधिक प्रवृत्ति का था। एक लाख रुपए पर हत्या की बातचीत तय कर ली गई। Samastipur Crime News

यह भी पढ़े :  समस्तीपुर दर्दनाक सड़क दुर्घटना में सास की मौत, जख्मी पुत्रवधु रेफर. Road Accident in Samastipur

3 मार्च को घटना के एक दिन पूर्व रौशन बरौनी स्थित अपने घर से पटोरी पहुंच गया और युगल तथा कुंदन से संपर्क किया। युगल के घर पर सब की मुलाकात हुई और उसके कहने पर उसके बेटे अवध बिहारी ने तत्काल पांच हजार की राशि रौशन को दी। 4 मार्च के दिन में कुंदन जो एक समय वीरेंद्र के साथ रहा करता था, ने रौशन से वीरेंद्र का परिचय कराया तथा उसके किराए के आवास पर गया। 4 मार्च की शाम में कॉलेज के एक कर्मी, जो इस साजिश में उसका साथ दे रहा था, ने कुंदन को शराब की कुछ बोतलें भिजवाई। Samastipur Crime News

अज्ञात लोगों ने आकर कुंदन को दारू का बोतल सौंपा। रात लगभग आठ बजे रौशन ने कुंदन को ज्योति होटल पर बुलवाया तथा ऑर्डर देकर खाना पैक करवाया। बाद में रौशन वीरेंद्र के किराए के मकान में खाना और शराब के साथ चला गया। इधर कुंदन कॉलेज लौट आया और युगल अपने घर पर ही था। 11:30 बजे हत्यारे रौशन ने युगल को फोन किया और कहा कि काम हो गया। Samastipur Crime News

डीएसपी ओमप्रकाश अरुण ने बताया कि इस बीच कुंदन और युगल ने अपना मोबाइल पोर्ट करवा कर सिम बदल लिया और रोशन भी मोबाइल बंद कर फरार हो गया। जब पुलिस ने शक के आधार पर कुंदन को गिरफ्तार किया और सख्ती की तो उसने इस हत्या की कहानी बताई। Samastipur Crime News

कुंदन भी संदिग्ध आपराधिक प्रवृत्ति का था। इस मामले में युगल किशोर राय के पुत्र अवध बिहारी तथा कुंदन को गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। रौशन, कॉलेज के एक अन्य कर्मी तथा युगल की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी तेज कर दी गई है। Samastipur Crime News

यह भी पढ़े :  बड़ी खबर : समस्तीपुर में छह कारतूस के साथ चार गिरफ्तार. | SAMASTIPUR NEWS