Breaking News : समस्तीपुर में झूठे मुक़दमे में अधिवक्ता को फ़साने की साजिश, एसपी से मिलने पहुंचे सैकड़ों वकील.

समस्तीपुर जिले में आपसी रंजिश में झूठा मुकदमा दर्ज कर एक अधिवक्ता पर हत्या का मुकदमा दर्ज कराने को लेकर गुरुवार को बार काउंसिल के अध्यक्ष किरण सिंह के साथ सैकड़ों अधिवक्ता पुलिस अधीक्षक मानव जी सिंह ढिल्लों से मिलकर लिखित आवेदन दिया है एवं पुलिस अधीक्षक से मांग किया है कि अधिवक्ता अपने पारिवारिक काम से बीते 1 महीने से दिल्ली में थे बावजूद इसके ऊपर समस्तीपुर में आपसी रंजिश को लेकर हत्या का झूठा मुकदमा दर्ज करा दिया गया है।

मिली जानकारी के अनुसार कल्याणपुर थाना क्षेत्र के वासुदेवपुर गांव मर बाईट दिनों निवासी प्रमोद झा के 45 वर्षीय पुत्र पप्पू झा की हत्या का मामला सामने आया था। जिसको लेकर मृतक के भाई विनय कुमार झा द्वारा 9 लोगों के विरुद्ध नामजद प्राथमिकी दर्ज करवाई गई गई थी। मृतक के भाई द्वारा इस मामले में कल्याणपुर थाना में दर्ज कांड संख्या 239/2021 में अधिवक्ता रत्नाकर झा एवं उनके परिवार के कई लोगों को नामजद अभियुक्त बना दिया गया। इसको लेकर अधिवक्ता एवं उनके परिवार का कहना है कि वह इस घटना में ना तो शामिल थे और ना वे समस्तीपुर में उस वक्त उपस्थित थे। बावजूद इसके उन्हें साजिश के तहत फंसाया जा रहा है।

उन्होंने बताया कि अपने पुत्र के एडमिशन को लेकर एवं अपने निजी कामों को लेकर वे 10 जुलाई 2021 से ही नई दिल्ली में थे और लगातार वहीं रह रहे थे। जिस की सीसीटीवी फुटेज एवं संबंधित सभी दस्तावेज उन्होंने पुलिस अधीक्षक के सौप दी हैं। लेकिन बाईट दिनों उनके गांव में एक व्यक्ति की हत्या मामले में उन्हें नामजद अभियुक्त बना दिया गया हैं। उनका कहना है कि जिस व्यक्ति के हत्या मामले में उन पर मुकदमा दर्ज किया है वह अपराधिक छवि का व्यक्ति था। उस पर अधिवक्ता रत्नाकर झा के घर में डकैती करने के मामले में 10 साल की सजा भी हो चुकी थी। उसी रंजिश को लेकर मृतक के भाई ने अधिवक्ता रत्नाकर झा एवं उनके पिता, भाई, चाचा को नामजद अभियुक्त बना दिया हैं।

 

 

घटना की जानकारी मिलते ही वे तुरंत दिल्ली से समस्तीपुर पहुंचे एवं उन्होंने इसको लेकर पुलिस अधीक्षक को लिखित आवेदन दिया है। आवेदन में उन्होंने कहा है कि वह निर्दोष है एवं उन्हें साजिश के तहत फंसाया जा रहा है। अधिवक्ता रत्नाकर झा के साथ बार काउंसिल की अध्यक्ष किरण सिंह के साथ – साथ सैकड़ों वकीलों ने भी पुलिस अधीक्षक को ज्ञापन दिया है एवं पुलिस अधीक्षक से यह आग्रह किया है कि अधिवक्ता रत्नाकर झा को एवं उनके परिवार को इस कांड में साजिश के तहत फंसाया जा रहा है एवं वे लोग निर्दोष हैं। अतः पुलिस अधीक्षक इस मामले में परिवार को इस कांड से जल्द से जल्द निर्दोष सभी लोगों को मुक्त कर दें।

वही इस मामले में बार काउंसिल समस्तीपुर के अध्यक्ष किरण सिंह ने बताया कि बार काउंसिल के सदस्य अधिवक्ता रत्नाकर झा को साजिश आपसी रंजिश में पुराने विवाद को लेकर हत्या के केस में फंसाया जा रहा है। जिसको लेकर वे एवं बार काउंसिल के 100 से अधिक वकीलों ने आज पुलिस अधीक्षक से मुलाकात की एवं उन्हें लिखित आवेदन देकर अधिवक्ता रत्नाकर झा एवं उनके परिवार को इस कांड से मुक्त कर देने एवं अपराध में शामिल लोगों की पर कार्रवाई करने की मांग की है।

Leave a Reply