Maithili Thakur : मैथिली ठाकुर बनी बिहार का ‘स्टेट आइकन’ ! चुनाव आयोग ने सौंपी जिम्मेदारी, जानिए क्या करना होगा काम.

Who is Maithili Thakur: मालूम हो कि मैथिली ठाकुर संगीत की दुनिया में एक जाना-पहचाना नाम है. अपनी अलग गायिकी से उन्होंने इंडियन म्यूजिक इंडस्ट्री में अपनी अलग पहचान बनाई है.

 

Maithili Thakur : चुनाव आयोग ने सोमवार को लोक गायिका मैथिली ठाकुर को बिहार का स्टेट आइकन नियुक्त किया है. भारतीय शास्त्रीय और लोक संगीत में प्रशिक्षित मैथिली ठाकुर को हाल ही में 2021 के लिए बिहार के लोक संगीत में उनके योगदान के लिए संगीत नाटक अकादमी के उस्ताद बिस्मिल्लाह खान युवा पुरस्कार के लिए भी चुना गया था. मैथिली ठाकुर ने मैथिली, भोजपुरी और हिंदी में बिहार के पारंपरिक लोकगीतों का गायन किया है.

मालूम हो कि मैथिली ठाकुर संगीत की दुनिया में एक जानापहचाना नाम है. अपनी अलग गायिकी से उन्होंने इंडियन म्यूजिक इंडस्ट्री में अपनी अलग पहचान बनाई है. 22 साल की मैथिली ठाकुर देश भर में स्टेज परफॉर्मेंश करती हैं. राइजिंग स्टार रनरअप के साथ वह सम्मान हासिल कर चुकी हैं.

इसके साथ- साथ मैथिली ठाकुर राष्ट्रीय स्तर के सिंगिंग शो, इंडियन आइडियल जूनियर 2015, सारेगामापा समेत कई रियालटी शो में प्रतिभा दिखा चुकी हैं. बिहार के मधुबनी जिले में जन्मी मैथिली ठाकुर अपने दो भाइयों के साथ लोक, हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत, हारमोनियम और तबला में अपने दादा और पिता द्वारा प्रशिक्षित की गई हैं.

चुनाव आयोग द्वारा बिहार के मुख्य निर्वाचन अधिकारी को भेजे गए पत्र में कहा गया है कि लोक गायिका मैथिली ठाकुर को बिहार के स्टेट आइकॉन के रूप में नियुक्त करने के प्रस्ताव को उसने मंजूरी दे दी है. बिहार के मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि गायिका चुनावी प्रक्रिया में भाग लेने के लिए मतदाताओं में जागरूकता पैदा करेंगे.

यह भी पढ़े :  Vigilance Raid : वैशाली SP के रीडर अनिल प्रसाद के घर निगरानी की RAID, पटना और नालंदा के ठिकानों पर भी छापेमारी.

गायिका के पिता रमेश ठाकुर ने बताया, हम चुनाव आयोग और बिहार सरकार के आभारी हैं. साथ ही यह पहचान मैथिली ठाकुर को बिहार के लोक संगीत को महाद्वीपों में फैलाने और चुनावी प्रक्रिया में भाग लेने के महत्व के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए और अधिक प्रोत्साहन देगी.