CBI Raid in Samastipur: समस्तीपुर में सीबीआई की बड़ी कार्रवाई! रेलवे के तीन अफसरों समेत पांच हत्थे चढ़े.

CBI Raid in Samastipur: केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने मनमाने तरीके से रेलवे रैक (वैगन) आवंटन में वित्तीय लेनदेन का पर्दाफाश किया है. इसमें बड़ी कार्रवाई करते हुए सीबीआई ने भारतीय रेलवे यातायात सेवा (IRTS) के तीन वरीय अधिकारी समेत 5 लोगों को गिरफ्तार (CBI Arrested Many IRTS Officers In Corruption Case) किया है. सीबीआई की ओर से यह कार्रवाई मनमाने तरीके से रेलवे रैक आवंटन में भ्रष्टाटार का भंडाफोर होने के बाद किया गया है. यह मामला पूर्व मध्य रेलवे (ईसीआर) हाजीपुर मुख्यालय से जुड़ा हुआ है. इस मामले में सीबीआई ने जाल बिछाया और सीएफटीएम (लोक सेवक) को 6 लाख रुपए रिश्वत लेते हुए पकड़ा. यही नहीं रिश्वत देने वाला भी पकड़ा गया.

सीबीआई की ओर से गिरफ्तार होने वालों में ईसीआर में मुख्य माल परिवहन प्रबंधक के पद पर तैनात आईआरटीएस अधिकारी संजय कुमार (1996 बैच), समस्तीपुर में तैनात रूपेश कुमार (2011 बैच) और सोनपुर में तैनात सचिन मिश्रा (2011 बैच) शामिल हैं. इन अधिकारियों पर रेलवे वैगन आवंटन में ईसीआर के वेनडरों से नियमित रिश्वत लेने का आरोप लगाया गया था. मामले में सीबीआई की ओर से कोलकाता के ‘आभा एग्रो इंडस्ट्रीज प्राइवेट लिमिटेड’ के नवल लधा के अलावा मनोज कुमार साहा नामक एक अन्य व्यक्ति को भी गिरफ्तार किया गया है. मनोज कुमार साहा भी पश्चिम बंगाल से ही संबध बताया जा रहा है. सीबीआई ने प्रेस रिलीज भी जारी किया है.

बता दें कि पूर्व मध्य रेलवे के सोनपुर मंडल कार्यालय में तैनात भारतीय रेलवे ट्रैफिक सर्विस के वरीय अधिकारी सचिन कुमार मिश्रा सहित दो अन्य अधिकारियों के ठिकाने पर सीबीआई ने रविवार को छापा (CBI Raid At IRTS Sachin Kumar Mishra Location in Sonpur) मारा था. सचिन कुमार मिश्रा सोनपुर मंडल में सीनियर डिवीजनल ऑपरेशन मैनेजर (Sr DOM) के पद पर कार्यरत हैं. सीबीआई की ओर से सोनपुर में छापे के बाद वहां तैनात अधिकारियों और कर्मचारियों में हड़कंप मचा हुआ है.

 

करीब साढ़े 23 लाख रिश्वत भेजने को कहा था: CBI Raid in Samastipur

इसके बाद सीबीआइ ने अपनी कार्रवाई प्रारंभ की। पहले ही प्रयास में पूर्व मध्य रेलवे के मुख्य माल परिवहन प्रबंधक संजय कुमार को छह लाख की रिश्वत लेते धर दबोचा। जानकारी के अनुसार कोलकाता स्थित कंपनी के निदेशक ने अपने भाई को रेलवे अफसरों को करीब साढ़े 23 लाख रिश्वत भेजने को कहा था. संजय कुमार की गिरफ्तारी के बाद सीबीआइ ने सोनपुर, हाजीपुर, समस्तीपुर, कोलकाता और पटना के साथ कुल 16 स्थानों पर छापा मारा. इस कार्रवाई में सीबीआइ के हाथ 46.50 लाख रुपये और कई महत्वपूर्ण दस्तावेज लगे. बरामद रकम एक वाहन में रेलवे अफसरों को देने के लिए छह लिफाफे में रखी गई थी. सूत्रों ने बताया कि सीबीआइ द्वारा रेलवे के तीन अफसरों की गिरफ्तारी व रेलवे रैक आवंटन के उद्भेदन के बाद दूसरे कई अन्य अफसरों के इस प्रकरण के जद में आने की बात कही जा रही है. उम्मीद जताई जा रही है कि जल्द ही इस मामले में कुछ और गिरफ्तारियां होंगी.

Leave a Reply