Bihar Election 2020 : बिहार चुनाव में NDA से क्यों अलग हुए चिराग पासवान, अमित शाह ने किया खुलासा.

बिहार चुनाव में लोजपा के एनडीए से अलग होने के कारणों का केंद्रीय गृह मंत्री और भाजपा के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने खुलासा कर दिया है। उन्होंने कहा कि एनडीए में लोजपा को बनाए रखने के लिए सीट ऑफर की गई थी। चिराग पासवान के साथ कई बार बातचीत हुई पर वे नहीं मानें। यह एक समझौता था जो नहीं हो सका। इसका हमें दुख है। लेकिन अब एनडीए में जदयू, भाजपा, वीआईपी और हम का मजबूत गठबंधन है। मजबूत सामाजिक समीकरण के साथ हम चुनावी मैदान में हैं और दो-तिहाई बहुमत के साथ सरकार बनाएंगे।

शनिवार को एक टीवी चैनल से बातचीत में गृह मंत्री ने लोजपा को ऑफर की गई सीटों का खुलासा करने से परहेज करते हुए कहा कि चुनाव के बाद लोजपा को गठबंधन में शामिल किया जाएगा या नहीं यह चुनाव के बाद देखा जाएगा। फिलहाल वे हमारे खिलाफ चुनाव मैदान में हैं। भाजपा के कार्यकर्ता एनडीए को जिताने का काम करेंगे। दमखम के साथ चुनावी मैदान में हम डटे हैं। भाजपा के अकेले चुनाव लड़ने के सवाल पर गृह मंत्री ने कहा कि नीतीश कुमार हमारे पुराने साथी हैं। गठबंधन का एक धर्म होता है जिसे हम निभा रहे हैं। केवल विस्तार के लिए अकेले चुनाव लड़ना ठीक नहीं। ऊपर मोदीजी और नीचे नीतीश जी, डबल इंजन वाली सरकार बिहार को विकसित राज्य बनाएगी।

'बिहार आज आगे बढ़कर देख रहा है'

गृह मंत्री ने कहा कि लालू-राबड़ी राज के 15 साल में बिहार का विकास ही ठप नहीं था, बल्कि फिरौती उद्योग बढ़ गई थी। गाय का चारा तक खा लिया गया। बेपनाह भ्रष्टाचर, लॉ एंड एंड ऑर्डर, सब खराब थे। अब बहुत अंतर आया। बिहार आज आगे बढ़कर देख रहा है और आगे बढ़ने के लिए तैयार है। यह परविर्तन 15 साल में आया है। मोदीजी के पीएम बनने के बाद इसमें और तेजी आई है। कई मानकों में बिहार के नीचे रहने के सवाल पर गृह मंत्री ने कहा कि तुलनात्मक अध्ययन करना है तो यह देखना पड़ेगा कि एनडीए को कैसा बिहार मिला था। समतल मैदान में मकान बनाना आसान है पर गड्ढा में मकान बनाना मुश्किल है। सरकार ने प्राथमिकताएं तय की। हम हर व्यक्ति को सशक्त बना रहे हैं। हर गांव को सड़क, बिजली और पानी से जोड़ा है।

'मोदी लहर का लाभ जदयू को भी मिलेगा'

अमित शाह ने राजद के माय समीकरण पर कहा कि होली से लेकर छठ पूजा तक गरीबों को नि:शुल्क अनाज दिया गया। बिहार की जनता इसे भूल नहीं सकती है। कोरोना काल में सरकार गरीबों के जीवन यापन का सहारा बना। मोदी लहर से होने वाले लाभ पर कहा कि भाजपा के साथ ही जदयू को भी इसका लाभ मिलेगा। जनता का मूड स्पष्ट रूख है। सर्वे भी सकारात्मक आए हैं। जदयू-भाजपा की सरकार बननी तय है। सुशांत राजपूत के चुनावी मुद्दा बनने पर कहा कि इसके हम दोषी नहीं हैं। जिस तरह से मुंबई पुलिस ने इस मामले की जांच की थी, अच्छा परसेप्शन नहीं बना था।